pdfmandi-logo

www.pdfmandi.com

www.pdfmandi.com

कोशिका तथा आनुवंशिकता


1. एनीमिया , कैंसर, थैलेसीमिया एवं रतौधीं रोगों में से थैलेसीमिया एक आनुवंशिक विकार हैं।
2.स्क्लेरेनकाइमा ऊतक मृत कोशिकाओं के संयोजन से बना होता हैं।
3. वसा ऊतक सबक्यूटेनियस लेयर में उपस्थित होते हैं।
4. पौधों में, कोलेनकाइमा नामक ऊतक के कारण लचीलापन होता हैं।
5. सीलेंट्रेटा का शरीर कोशिका की दो परतों से बना होता हैं।
6. RNA का पूर्ण रुप रिबो न्यूक्लिक एसिड हैं।
7. एरियोलर ऊतक अंगो के अंदर के स्थान को भरता हैं, आंतरिक अंगो का सहारा देता हैं और ऊतको की मरम्मत करता हैं।
8. पौधों के प्रजनन की वर्धी जनन में आनुवंशकीय रुप से जनक के सभी गुण पौधों में होते हैं।
9. पत्तियों में कोशिकाओं की उपरी और निचली परत आंतरिक भागों की रक्षा करती है, पानी की मात्रा को नियंत्रित करती हैं तथा गैंसो का आदान-प्रदान करती हैं।
10. पेरेनकाइमा में कोशिकांए ढीली बंधी होने के कारण इनमें बड़े अंतर कोशिकीय स्थान पाए जाते हैं।
11. साइटोकाइनिन कोशिका विभाजन में वृद्धि करता हैं।
12. वाहिकाएं आवृतबीजी में प्रमुख जल संचालन कोशिकांए हैं।
13. ब्रायोफाइलम कुल के पौधे अपनी पत्तियों के किनारों पर उगी कलिकाओं द्वारा अलैंगिक प्रजनन विधि से नए पौधे उत्पन्न करते हैं।
14. साधारण स्थायी ऊतक पेरेनकाइमा, कोलेनकाइमा और स्केलेरेनकाइमा हैं।
15. हाइड्रा नामक जलीय जीव का शरीर कोशिकाओं की दो परतों से बना हैं।

koshika

16. अंडप में बीजांड होते हैं।
बीजांड शाब्दिक अर्थ में बीज का अंडा होता है।
किसी भी बीज उत्पन्न करने वालें पादप में बीजांड वह संरचनाएं होती हैं, जहां प्रजननात्मक कोशिकाओं का निर्माण व भंडारण होता हैं।
17. जाइलम एक जटील स्थायी ऊतक हैं।
यह पादप में पानी और खनिज के परिवहन का कार्य करता हैं।
18. राइजॉइड एपिथेलियल ऊतकों से बनी बहु-बहुकोशिकीय संरचनाएं नही होती हैं।
19. अस्थि कोशिकाएं एक दृढ़ आव्यूह में अंत: स्थापित होती हैं, जो कैल्शियम और फॉस्फोरस से बना होता है।
20. विभज्योतक या मेरीस्टेमेटीक ऊतक एकमात्र पादप ऊतक हैं, जो कोशिका विभाजन द्वारा नई कोशिकाओं का उत्पादन करता हैं।
21. लालजी सिंह को भारत में डी.एन.ए फिंगरप्रिंटींग के पिता के रुप में जाना जाता हैं।
22. हाइड्रा बडिंग( मुकुलन) की प्रक्रिया द्वारा प्रजनन के लिए पुनर्जन्म कोशिकाओं का उपयोग करता हैं।
23. फ्लोएम में चालनी नलिकाएं, सहकोशिकाएं, फ्लोएम तंतु एवं फ्लोएम पैरेनकाइमा होते हैं।
24. कवक की कोशिका भित्तियां काइटिन से बनी होती हैं।
25. कुछ बहु कोशिकीय सजीव जैसे राइजोपस, मशरुम और कुछ जीवाणु एस्परजिलस इत्यादि में प्रजनन बीजाणु से होता हैं।
26.दृढ़ ऊतक निर्जीव कोशिका से बना होता हैं।
27. स्कलेरेनकाइमा में कोशिका भित्ति लिग्निन के काऱण मोटी होती हैं 28. मनुष्य की आनुवंशिकी का पता अफ्रीकी मूल द्वारा लगाया जा सकता हैं।
29. रॉड और कोन आंख में पाए जाते हैं।
30. कवक कोशिका भित्ति कड़ी जटिल शर्करा से बनी होती हैं, जिसे सेल्युलोज कहते हैं।
31. पेरेनकाइमा कोशिकाओं में शिथिल रुप से पैक किया जाता हैं।
ताकि बड़े अंतरकोशिकीय स्थान मिलें।
32. पैरेनकाइमा में पतली कोशिका भित्ति के साथ अपेक्षाकृत गैर-विशिष्ट कोशिकाएं होती है।
33. ऑक्सीजन का उपयोग करके पाइरुवेट का विभाजन माइट्रोकॉन्ड्रिया में होता हैं।
34. विदलन विभाजन से कोशिका का आकार घटता हैं।
35. संयोजी ऊतक में मैट्रिक्स होती हैं और कोशिकाएं मैट्रिक्स में सन्निहित होती हैं।
36. विभज्योतक ऊतक कोशिका विभाजन में सक्षम हैं।
37. जीन (वंशाणु) डीएऩए का एक हिस्सा है, जो एक प्रोटीन के लिए जानकारी प्रदान करता हैं 38. अरेखित पेशियां एककोशिकीय होती हैं।
39. कॉलेनकाइमा, स्केलेरेनकाइमा, जाइलम तथा पैरेनकाइमा ऊतकों में से केवल पैरेनकाइमा ऊतक में अंतरकोशिकीय क्षेत्र बड़ा होता हैं।
40. डी.एन.ए (D.N.A) आनुवंशिक गुण के वाहक है।
41. दो यूग्मक कोशिकाएं ( Gamahe cells) लैंगिक प्रजनन ( निषेचन) के परिणामस्वरुप संयुक्त होकर युग्मनज (Zygote) बनाती हैं।
41. वंशानुक्रम की इकाई जीन है।
42. जाइलम ऊतक मुख्य रुप से मृत कोशिकाओं से बना होता है।
43. तर्कु तंतु ट्यूबिलयन के बने होते हैं 44. पॉलीमरेज चेन रिएक्शन ( PCR) के लिए डी.एन.ए पॉलीमरेज एंजाइम आवश्यक हैं।
45. रोजालिन्ड फ्रेंकलिन ने DNA , ह्यूगो डी-ब्रीज उत्परिवर्तन , डब्लयू.वाल्डेयर गुणसूत्र एवं लेविन ने राइबोज शर्करा का पता लगाया था।
46. मेंडल द्वारा अपने प्रयोग के लिए चुना गया पौधा पाइसम सेटाइवम ( मटर) था।
47. आनुवंशिक लक्षणों के पीढ़ी-दर-पीढ़ी संचरण की विधियों और कारणों के अध्ययन को आनुवंशिकी (Genetics) कहते हैं।
48. आनुवंशिकता के बारें में सर्वप्रथम जानकारी 1866 ई. में ग्रेगर जॉन मेंडल ने दी।
49. ग्रेगर जॉन मेंडल को आनुवंशिकता का पिता (Father of Genetics) कहा जाता हैं।
50. जीन जीवित प्राणियों की आनुवांशिक इकाई होती हैं।
51. जीन शब्द की खोज डेनमार्क के वनस्पति शास्त्री विल्हेम जॉन्सेन ( Wiheln Johnson) ने की थी।
52. डी.एन.ए संरचना का सही मॉडल वॉटसन और क्रिक ने वर्ष 1953 में प्रतिपादित किया था।
53. डी.एन.ए को जीवन का रासायनिक ब्लू प्रिंट कहा जाता हैं।
इससे व्यक्तियों की पहचान की जाती हैं।
54. मानव कोशिका में गुणसुत्रों की संख्या 23 जोड़ी ( संख्या में 46) होती हैं।
55. 22 जोड़े नर व मादा में समान होते हैं,जिन्हें समजात गुणसूत्र या ऑटोसोम कहते हैं।
56. 23 वाँ जोड़ा समान नहीं होता तथा विषमजात गुणसूत्र कहलाता है,यह लिंग निर्धारक होता हैं।
57. मानव के अंगो के अतिरिक्त भाग ( हिस्सें ) स्टेम कोशिकाओं द्वारा तैयार किए जा सकते हैं।
58. किसी शिशु के वंशागत जीनों की कुल संख्या में माता और पिता ( प्रत्येक) से प्राप्त जीनों की संख्या समान होती हैं।
59. बैक्टीरिया कोशिका मूलत: एक पादप कोशिका हैं।
60. विषाणु को अपनी संख्या वृद्धि के लिए दूसरी जीवित कोशिका की जरुरत पड़ती हैं।
61. ब्रायोफाइलम , खमीर एवं हाइड्रा ये सभी जीव मुकुलन द्वारा पुनरुत्पादित हो सकते हैं।
62. द्राक्षा द्रव (Grape Wine) को किण्वन प्रक्रिया से बनाते हैं।
63. गॉल्जी पिंडो ( Golgi bodies) का मुख्य कार्य स्रावण करना हैं।
64. आनुवंशिकता के अनुक्रम को आनुवंशिकी डब्ल्यूं बैटेसन ने कहा था।
65. एक जन्तु कोशिका पादप कोशिका से भिन्न होती हैं क्योकिं जन्तु कोशिका में कोशिका भित्ति एवं क्लोरोप्लास्ट का अभाव होता हैं।
66. आनुवंशिकता के सिद्धांत,जीनो के कार्य और विनिमय आदि का अध्ययन जेनेटिक्स में किया जाता हैं।
67. किसी विशेष नस्ल के प्रत्येक ज्ञात सदस्य की मृत्यु हो जाने की प्रक्रिया को विलोपन कहते हैं।
68. डॉ. हरगोविन्द खुराना को जेनेटिक कोड का लेख पढ़ने के लिए नोबेल पुरुस्कार प्राप्त हुआ।
69. किगेलिया पिन्नाटा वृक्ष चमगादड़ो द्वारा परागित होता है।
70. घनाकार एपिथीलियम की कोशिकाओं पर सामान्यत: सूक्ष्मांकुर पाए जाते हैं।
71. मानव में क्रोमोसोम्स की संख्या 45 ( 22 AA+XO) टर्नर सिंड्रोम में परिमाणित होती हैं।
71. फलों और फूलों के पीले व नारंगी होने का मुख्य कारण क्रोमोप्लास्ट हैं।

aanuvansikta

72. माइटोकॉण्ड्रिया एक कला-बद्ध कोशिकाद्रव्यी अंगक है, जिसमें ऑक्सीकारक फॉस्फोरिलीकरण होता हैं।
73. इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी से कोशिका प्रभाजन किया जाता हैं।
74. मानव गुणसूत्र( (DNA/RNA) क्षारीय होते हैं।
75. डी.एन.ए ( DNA) में एडिनीन, ग्वानिन, थाइमिन तथ साइटोसीन बेस पाया जाता हैं।
76. DNA से ही RNA का संश्लेषण होता हैं।
77. अमीबा में एक सेल ( कोशिका) पाई जाती हैं।
अर्थात अमीबा एक कोशीय जीव हैं।
78. वनस्पतियों में जीवन होता हैं इसका शोध जे. बी. बोस ने किया था।
79. बैक्टीरिया में केन्द्रक भित्ति का अभाव होता हैं।
80. साइटोप्लाज्म कोशिका जिस झिल्ली से जुड़ी रहती हैं,वह प्लाज्मा झिल्ली हैं।
81. सूत्रकणिका या माइटोकॉन्ड्रिया को कोशिका का शक्ति गृह कहा जाता हैं।
82. शारीरिक कोशिकाओं को समसूत्रण प्रक्रिया से विभाजीत किया जाता हैं।
83. क्रोमोसोम न्यूक्लियस में पाये जाते हैं।
84. उपकला ऊतक को सरंक्षी ऊतक भी कहा जाता हैं।
85. कोशिका दीवार पादप कोशिका में पाई जाती हैं।
86. साइटोलॉजी (Cytology) कोशिकाओं( Cells) का अध्ययन हैं।
87. स्टेम कोशिकाओं से प्रयोगशाला में बनाया गया प्रथम मानव अंग यकृत हैं।
88. आनुवंशिकता के नियम की खोज ग्रेगर मेंडल ने की।
89. 1831 ई. में एक कोशिका में केंद्रक की खोज रॉबर्ट ब्राउन ने की थी।
90. कोशिका जीवन की रचनात्मक एवं क्रियात्मक इकाई होती हैं।
91. प्रोकैरियोटिक कोशिकाओं में पूर्ण रुप से विकसित कोशिकांग जैसे- लवक, गॉल्जी तंत्र, माइटोकॉण्ड्रिया , एण्डोप्लाज्मिक रेटीकुलम आदि अनुपस्थित होते हैं।
92. प्लास्मिड जीवाणु में उपस्थित डी.एन.ए हैं।
93. ल़वक या प्लॉस्टिड केवल पादप कोशिकाओं में पाए जाते हैं।
यह जानवरों की कोशिकाओं में नही पाया जाता हैं।
94. एक DNA अणु के न्यूक्लियोंटाइड्स में नाइट्रोजनी क्षार, पेंटोज शर्करा एवं फॉस्फेट समूह होते हैं।
95. डी.एन.ए में G युग्मित हैं C के साथ 96. DNA की संरचना दोहरी कुंडली हैं।
97. थैलेसेमिया एक वंशानुगत रोग हैं, जो रक्त को प्रभावित करता हैं।
98. RNA का अभिप्राय Ribonucleic Acid हैं।
99. डी.एन.ए फिंगर प्रिंटिंग एवं डायग्नोस्टिक का केंद्र हैदराबाद में अवस्थित हैं।
100. DNA का पूरा नाम डिऑक्सीराइबोस न्यूक्लिक एसिड हैं।